📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥Essay on Freedom Fighters for Students and Children

तू रस का सागर है, मैं रस की प्यासी धारा ।

तू रस का सागर है, मैं रस की प्यासी धारा

तू रस का सागर है, मैं रस की प्यासी धारा ।
तू रसिक शिरोमणि, मैं अतृप्त प्यास।।
तू करुणा का सागर, मैं अकरुण अट्टहास ।
तू अमृत वर्षण, मैं मरूभूमि रेगिस्तान ।।
तू प्रबल दया का सागर है, मैं दुर्बल निःश्वास ।
तू दयालु दीन बंधु, मैं दीन हीन दास ।।
तू पालनहार तारनहार, मै पातकी निराधार ।
हजारों ख्वाहिशें हैं तो बन्दिसें भी हैं हजार ।।
तू तो सुनामी है, सुधा रस सागर है ।
तोड़ तटबंध करते क्यों नहीं आत्मसात।।
मुझे तुझ पर है अखंड विश्वास।
तू रस का सागर है, मैं रस की प्यासी धारा।।

रामनवमी एवं महानवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X