📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

वृक्षारोपण पर निबंध

👀 इस पेज पर नीचे लिखा हुआ वृक्षारोपण पर निबंध | वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध (Importance of Tree Plantation in Hindi |  Essay on Afforestation in Hindi) आप को अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए निबंध लिखने में सहायता कर सकता है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कई विषयों पर हिंदी में निबंध मिलेंगे (👉 निबंध सूचकांक), जिन्हे आप पढ़ सकते है, तथा आप उन सब विषयों पर अपना निबंध लिख कर साझा कर सकते हैं


वृक्षारोपण पर निबंध 
वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध
Importance of Tree Plantation in Hindi
Essay on Afforestation in Hindi


🗣️ वृक्षारोपण पर निबंध | वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध (Importance of Tree Plantation in Hindi |  Essay on Afforestation in Hindi) पर यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए और अन्य विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए लिखा गया है।

प्रस्तावना

हमारे जीवन में प्रकृति का महत्व बहुत अधिक है। प्रकृति द्वारा प्रदान किये संसाधनों के ही द्वारा हम एक श्रेष्ठ जीवन यापन करते हैं। यदि प्रकृति के सभी संसाधन नष्ट हो जाएं तो हम एक क्षण भी यहाँ जीवित नहीं रह सकेंगे। उन समस्त संसाधनों में वृक्ष, पौधे, जंगल, मिट्टी, जल, नदियाँ, पहाड़, पर्वत, मैदान, वायु और कई चीजें सम्मिलित हैं। आज के समय इन सभी का काफी तेजी से क्षय हो रहा है। जंगलों और पेड़-पौधों को काटकर इमारतें और अपार्टमेंट बनाए जा रहे हैं। उचित स्थानों पर वृक्षों का लगाने का भी पूरी तरह अभाव है। इसके कारण न तो पर्यावरण में हरियाली रह गई है, न ही शुद्ध हवा। इसीलिये वृक्षारोपण की आवश्यकता और महत्व किसी भी अन्य प्राकृतिक अभियान से सर्वोपरि है। आइये वृक्षारोपण के अन्य पहलू और जरूरी बातें समझें।

वृक्षारोपण की आवश्यकता क्यों?

हम जानते हैं कि एक खुशहाल जीवन का महत्वपूर्ण स्तंभ अच्छा स्वास्थय है। पर आजकल कई लोगों का स्वास्थय बहुत खराब रहता है। जिसका एक कारण शुद्ध हवा का न होना है। प्रदूषण से जहरीली गैसें वातावरण में मिल कर हमारे स्वास्थय को प्रभावित करती हैं। यदि हम पर्याप्त मात्रा में वृक्षों को लगाए तो एक स्वास्थय की बेहतरी तो होगी ही, साथ ही जीवन में खुशहाली भी आएगी।

वृक्षों की कमी की वजह से ही वर्षा का स्तर कम हो रहा है। वर्षा, जल का मुख्य स्रोत है। इसीलिये जल के सरंक्षण के लिये वृक्षों का होना अनिवार्य है। अगर वृक्षों की पर्याप्त मात्रा हो तो गर्मी के स्तर भी घटेगा और भूमिगत जल के लिये भी जल का इंतजाम होगा। वृक्षों के होने से किसानों को तेज बहाव वाले पानी से अपनी फसलों को बचाने में मदद मिलती है।

वृक्षों का प्रकृति में उचित स्थान है। वृक्ष परोपकार के अप्रतिम उदाहरण हैं। प्रस्तुत श्लोक वृक्षों की महत्ता का वर्णन करता है।

दशकूपसमावापी, दशवापीसमोह्रद:

दशह्रदसम: पुत्रोदशपुत्रसमोद्रुम: 

अर्थात् एक बावड़ी का निर्माण करना दस पानी के कुएं बनाने के समान है और एक तालाब का निर्माण दस बावड़ियों के समान है। एक पुत्र दस तालाबों के समान होता है किन्तु एक वृक्ष लगाना दस पुत्रों के समान है।

वृक्षों से मिलने वाली वायु ही हमें पोषण देती है। शुद्ध हवा और स्वास्थय के अलावा वृक्ष हमें जीवन में सार्थकता का अहसास भी कराते हैं। इसीलिये देश, समाज और दुनिया में वृक्षारोपण को महत्व दिया ही जाना चाहिए।

वृक्षारोपण के उपाय

वृक्षारोपण जन-जन की आवश्यकता है। इसीलिये सभी को अपनी ओर से वृक्षारोपण में योगदान देना चाहिए। यह सिर्फ किसी सरकार का कार्य या अभियान नहीं है। वृक्षारोपण से हम सभी लाभ प्राप्त करेंगे। वृक्षारोपण से पहले विभिन्न प्रजातियों के वृक्षों, उनके लाभ, हानियों आदि बिंदुओं पर विशेषज्ञों से विचार करना उचित है। मोटे तौर पर कहें तो हमें ऐसे वृक्ष लगाने चाहिए जो छायादार, विशाल, और स्वास्थय पर सकारात्मक प्रभाव डालते हों। कुछ अन्य बिंदु जिनका वृक्षारोपण के समय ख्याल रखना चाहिए, निम्न हैं-

1. हर मार्ग पर, सीधे रास्तों और सड़कों कुछ निश्चित दूरियों पर वृक्ष लगाने चाहिए।

2. लगाए गए वृक्षों को जल व सुरक्षा प्रदान करने की व्यवस्था करनी चाहिए। भले ही ये वृक्ष हमें छाया न दें पर आने वाली पीढ़ी को अवश्य समृद्ध करेंगे। आज हमारे लगाए हुए ये वृक्ष ही भावी पीढ़ी के लिये सीख साबित होंगे।

3. विद्यालयों, कॉलेजों और शिक्षा संस्थानों के भीतर और बाहर वृक्षों के उचित रखरखाव का प्रबंध होना चाहिए। इससे छात्र और युवा विद्यार्थी वृक्षों के महत्व के प्रति जागरुक और संवेदनशील होंगे।

4. पुराने और विशाल छायादार वृक्षों को अपने फायदे के लिये काटने वाले लोगों का संगठित होकर विरोध करना चाहिए।

5. जिन लोगों के घरों या आंगन में पर्याप्त स्थान हो, वे वहीं वृक्षारोपण कर सकते हैं। इससे बच्चों को प्राकृतिक वातावरण भी मिलेगा और वे इसकी अहमियत को भी समझेंगे।

उपसंहार

हम सभी को ख्याल रखना चाहिए कि वृक्षों के अभाव में हमारा जीवन बदतर हो जाएगा। इस संबंध में हमें अपने बच्चों को जागरुक करना चाहिए।

सोचो अगर ये पेड़ ना होते,
धरती पे कभी हम ना होते।

हर व्यक्ति को प्रकृति और अपने जीवन के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए वृक्षारोपण में यथासंभव योगदान देना चाहिए। यह हमारा केवल अज्ञान ही है कि हमारा जीवन किसी पर निर्भर नहीं है। किंतु हम प्रकृति के प्रत्येक अन्य संसाधन पर निर्भर हैं। इसीलिये आप भी वृक्षों के प्रति कर्तव्य का पालन करते हुए उनके संरक्षण और पोषण की जिम्मेदारी लें।


👉 यदि आपको यह लिखा हुआ “वृक्षारोपण पर निबंध | वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध” पसंद आया हो, तो इस निबंध (Importance of Tree Plantation in Hindi |  Essay on Afforestation in Hindi) को आप अपने दोस्तों के साथ साझा करके उनकी मदद कर सकते हैं


👉 आप नीचे दिये गए सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध पढ़ सकते है तथा आप अपना निबंध साझा कर सकते हैं |

सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध
नयी शिक्षा नीति पर निबंधशिक्षित बेरोजगारी पर निबंध
जीना मुश्किल करती महँगाईपुरानी पीढ़ी और नयी पीढ़ी में अंतर
मानव अधिकार पर निबंधभारत में आतंकवाद की समस्या पर निबंध
भ्रष्टाचार पर निबंधजीवन में शिक्षा का महत्व पर निबंध

विनम्र अनुरोध:

इस तरह “वृक्षारोपण पर निबंध | वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध (Importance of Tree Plantation in Hindi |  Essay on Afforestation in Hindi)” यहीं पूरा होता है। हमने अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए पूरी कोशिश की है कि इस हिंदी निबंध में किसी भी प्रकार की त्रुटि ना हो। फिर भी यदि आप को इस निबंध में कोई गलती दिखती है तो आप अपना बहुमूल्य सुझाव ईमेल के द्वारा दे सकते है। ताकि हम आपको निरन्तर बिना किसी त्रुटि के लेख प्रस्तुत कर सकें।

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X