📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi)

👀 इस पेज पर नीचे लिखा हुआ भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi) आप को अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए निबंध लिखने में सहायता कर सकता है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कई विषयों पर हिंदी में निबंध मिलेंगे (👉 निबंध सूचकांक), जिन्हे आप पढ़ सकते है, तथा आप उन सब विषयों पर अपना निबंध लिख कर साझा कर सकते हैं


भारतीय त्योहार पर निबंध
Essay on Indian Festivals in Hindi


हमारा भारत एक ऐसा देश है, जहां हर धर्म के लोग रहते हैं। यहां हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्म के लोग निवास करते हैं। यही वजह है कि यहां सभी धर्म के त्यौहारों को एक साथ मिल जुलकर पूरी खुशी के साथ मनाया जाता है। धर्म के अलावा भी यहां पर राष्ट्रीय और मौसमी त्योहारों को भी प्रसन्नता के साथ मनाया जाता है। इस प्रकार अलग अलग धर्म के लोगों के होने पर भी हमारा देश अनेकता में एकता रखता है।

हालंकि बहुत से राजनेता अपने फायदे के लिए हिंदू-मुस्लिम व अन्य धर्मों के बीच भेदभाव करके उन्हें लड़वाना चाहते हैं। लेकिन फिर भी हम सबके दिल में एक दूसरे के प्रति जो प्यार है, वो इन त्योहारों के द्वारा फिर से जाग जाता है। और सारी नफरत मिट जाती है।

🗣️ भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi) पर यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

प्रस्तावना (Introduction) –

हमारा भारत देश त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है। दूसरे शब्दों में इसे त्योहारों का देश कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां हर दिन कोई न कोई त्यौहार या पर्व मनाया जाता है और इसी में हम भारतवासियों को खुशी भी मिलती है। हिंदू-मुस्लिम के बीच की दूरी खत्म होती है। लोग मिठाइयां बांटकर एक दूसरे से सारे गिले शिकवे दूर कर लेते हैं। सब लोग अपने अपने धर्म के अनुसार अपने अपने त्यौहार मनाते हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय और मौसमी त्यौहार भी होते हैं, जिसमें लोग अपना धर्म भूलकर आपस में मिलकर इन त्यौहारों का जश्न मनाते हैं। 

त्योहार क्यों मनाए जाते हैं (Why are Festivals Celebrated in Hindi)?

त्योहार या पर्व मनाने के पीछे धार्मिक कारण होते हैं। हर एक धर्म के त्योहार के पीछे कोई न कोई वजह होती है, जिस कारण लोग अपने अपने धर्म के त्यौहार सबके साथ मिलकर जुलकर मनाते हैं। इसके अलावा जो राष्ट्रीय त्यौहार होते हैं उनके पीछे राष्ट्रीय कारण होते हैं। वहीं मौसमी त्योहारों के पीछे भी मौसमी कारण होते हैं। इसलिए इन त्योहारों को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ धूमधाम से मनाया जाता है।

इसके अलावा त्यौहार से बच्चे, बूढ़े, जवान सबको खुशी मिलती है। त्योहार के जरिए बच्चे आपस में प्यार, मोहब्बत और एकता सीखते हैं। जरूरतमंदों की मदद करना सीखते हैं। खुशी बांटना सीखते हैं। इस तरह से उनके अंदर देश और देश के लोगों दोनों के प्रति प्रेम जागृत होता है।

त्योहारों का महत्व (Importance of Festivals in India) –

त्यौहार सभी भारतवासियों के लिए महत्वपूर्ण है। यह किसी भी धर्म, जाति व देश को उसके अतीत की याद दिलाने के लिए मनाया जाता है। वहीं इन त्योहारों से किसी भी तरह का दुख हो, पीड़ा हो या उदासी सब आसानी से दूर हो जाती है। और व्यक्ति के अंदर जीने का जुनून भर देती है। त्योहार किसी भी तरह की बोरियत को दूर करने का साधन है। यह व्यक्ति के जीवन में परिवर्तन लाने में अहम भूमिका निभाता है।

त्योहारों के प्रकार (Types of Festivals) –

भारत में अनेक प्रकार के धर्म और जाती हैं। हर धर्म और जाति के अपने अपने त्यौहार होते हैं। इसी प्रकार राष्ट्र के भी बहुत सारे अपने त्यौहार होते हैं, जिन्हें हम सब मिलकर मनाते हैं। इन त्योहारों की गिनती कर पाना कठिन है, इसलिए इन त्योहारों को तीन श्रेणियों में बांटा गया है – 

धार्मिक त्यौहार (Religious Festivals) –

धार्मिक त्यौहार वे त्यौहार होते हैं, जो किसी धर्म के रीति-रिवाज़ों को मद्दे नज़र रखकर लोगों द्वारा मनाया जाता है। जैसे मुस्लिम धर्म में – ईद-उल-फितर, ईद-उल-अजहा इत्यादि। हिंदू में – दिवाली, दशहरा, होली इत्यादि। ईसाई में – क्रिसमस इत्यादि। इसी तरह अन्य धर्म के भी अपने अपने त्यौहार होते हैं। 

राष्ट्रीय पर्व (National Festivals) –

राष्ट्रीय पर्व वे त्यौहार होते हैं, जो देश के महान स्वतंत्र सेनानियों की देशभक्ति, उनके बलिदान और उनकी याद में मनाए जाते हैं। जैसे – स्वतंत्र दिवस, गणतंत्र दिवस, गांधी जयंती इत्यादि। यह पर्व उनके कार्य और बलिदान को बताने और उनको सम्मान देने के लिए मनाए जाते हैं। 

मौसमी त्यौहार (Seasonal Festivals) –

भारत में मौसमी त्यौहार भी बड़े ही धूमधाम से मनाए जाते हैं। इनमें से कुछ फसलों के कटने पर तो कुछ मौसम के बदलने पर मनाए जाते हैं। इनमें से कुछ सांस्कृतिक तो कुछ त्यौहार पारंपरिक भी होते हैं। जैसे – वसंत पंचमी, छट, बिहू, पोंगल या मकर संक्रांति।

ईद-उल-फितर (Eid-ul-Fitr) –

ईद-उल-फितर मुसलमानों द्वारा मनाया जाने वाला एक मुख्य त्यौहार है। यह मुसलमान तीस रोज़ा रखने की खुशी में मनाते हैं। यह खुदा की तरफ से रोज़दार के लिए रमज़ान का तोहफा होता है। ईद के दिन सभी लोग नमाज़ पढ़ते हैं, सेवइयां बनाते हैं, एक दूसरे के घर जाते हैं और आपसी दुश्मनी भूलकर आपस में गले मिलते हैं।

दिवाली (Diwali) –

दिवाली दीयों का त्यौहार है। यह हिंदू धर्म में मनाए जाने वाला त्यौहार है। इस त्यौहार में सब लोग नये कपड़े पहनते हैं, पटाखे फोड़ते हैं, एक दूसरे को मिठाइयां बांटते हैं। हिंदू मान्यता के अनुसार इस दिन श्री राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ 14 साल का वनवास काटकर वापस अयोध्या आए थे। इनके वापस आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने पूरा राज्य दीयों से जगमगाया था। 

क्रिसमस (Christmas) –

क्रिसमस ईसाइयों (Christian) द्वारा मनाए जाने वाला सबसे बड़ा और मुख्य त्योहार है। यह हर साल 25 दिसंबर को मनाया जाता है। इस त्यौहार को ईसा मसीह के जन्मदिन की खुशी में ईसाइयों द्वारा मनाया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) –

स्वतंत्रता दिवस एक राष्ट्रीय पर्व या त्यौहार है। इसे हर साल 15 अगस्त को पूरा हिंदुस्तान मिलकर मनाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसी दिन 15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेज़ों के हाथ से आजाद हुआ था। इस आजादी को दिलाने के लिए बहुत सारे स्वतंत्रता सेनानियों ने अपनी जान की कुर्बानी दे दी थी। इसलिए उनको याद करने के लिए भी इस दिन को पूरे हर्षोल्लास से मनाया जाता है। और भारत का झंडा फहराया जाता है।

गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) –

गांधी जयंती भी एक राष्ट्रीय पर्व है, जो गांधी जी के जन्मदिन 2 अक्टूबर को हर साल मनाया जाता है। गांधी जी ही ऐसे व्यक्ति थे, जिन्होंने देश को आज़ाद करवाने के लिए लंबे समय तक आंदोलन का नेतृत्व किया था। साथ ही इन्होंने कई ऐसे आंदोलन चलाए जिसने अंग्रेजों को भागने पर मजबूर किया।  इसलिए हर साल उनके जन्मदिन की खुशी में सरकारी और गैर सरकारी दफ्तरों, हर जगह छुट्टी होती है।

निष्कर्ष (Conclusion) –

हमारे भारत का नाम पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। ऐसा इसलिए क्योंकि केवल हमारा देश ही ऐसा देश है, जहां हर धर्म के लोग निवास करते हैं और हर धर्म के लोगों को उनके त्योहार मनाने की इजाज़त है। पूरा देश मिलकर एक दूसरे के त्यौहारों को मनाता है। त्यौहार हमारे धर्म, संस्कृति और मान्यता का प्रचार और प्रसार करते हैं। इनसे आपसी प्यार बढ़ता है। अलग अलग धर्म के होने पर भी लोग एक दूसरे से मिलते हैं। एक दूसरे के लिए नफरत और कड़वाहट दूर होती है। भेद भाव से दूर हटकर भाईचारे वाला माहौल बन जाता है। 

👉 यदि आपको यह लिखा हुआ भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi) पसंद आया हो, तो इस निबंध को आप अपने दोस्तों के साथ साझा करके उनकी मदद कर सकते हैं


👉 आप नीचे दिये गए भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi) पढ़ सकते है तथा आप अपना निबंध साझा कर सकते हैं |

भारतीय त्योहारों पर निबंध
दीपावली पर निबंधसरस्वती पूजा समारोह 
होली पर निबंधहोलिका दहन पर निबंध
ईद पर निबंधभैया दूज पर निबंध
बसंत पंचमी पर निबंधमहाशिवरात्रि पर निबंध
पोंगल पर निबंधमकर संक्रांति पर निबंध
दुर्गा पूजा पर निबंधगणेश चतुर्थी पर निबंध
बिना पटाखों की दिवाली पर निबंधगोवर्धन पूजा पर निबंध
कृष्ण-जन्माष्टमी पर निबंधदशहरा-विजयदशमी पर निबंध
क्रिसमस पर निबंधरक्षाबंधन पर निबंध
छठ पूजा पर निबंधमहावीर जयंती पर हिंदी निबंध
बैसाखी पर निबंधमुहर्रम पर निबंध
करवा चौथ पर निबंधबिहू पर निबंध
रथयात्रा पर निबंधबुद्ध पूर्णिमा पर निबंध 
क्रिसमस पर निबंधसरस्वती पूजा समारोह पर निबंध
रमजान पर निबंध

विनम्र अनुरोध:

इस तरह “भारतीय त्योहार पर निबंध (Essay on Indian Festivals in Hindi)” यहीं पूरा होता है। हमने अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए पूरी कोशिश की है कि इस हिंदी निबंध में किसी भी प्रकार की त्रुटि ना हो। फिर भी यदि आप को इस निबंध में कोई गलती दिखती है तो आप अपना बहुमूल्य सुझाव ईमेल के द्वारा दे सकते है। ताकि हम आपको निरन्तर बिना किसी त्रुटि के लेख प्रस्तुत कर सकें।

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X