📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

माँ की आँखो में दो बूंद आँसू

माँ की आँखो में दो बूंद आँसू

जब मैं अपने माँ के गर्भ में था तब भी उनके आँखों में दो बूंद आँसू थे।
जब मैं पैदा हुआ तब भी मेरे माँ के आँखों में दो बूंद आँसू थे।


जब मैं घुटने के बल चलना प्रारम्भ किया तब भी मेरे आँखों में दो बूंद आँसू थे।
जब मैं अपने माँ की उंगलियों को पकड़ के खड़ा होना सीखा तब भी उनके आँखों में दो बूंद आँसू थे।


जब मैं पहली बार माँ को पुकारा तब भी उनके आँखों में दो बूंद आँसू थे।
जब वह मुझे मेरे विद्यालय पहली बार छोड़ने गई तब भी उसके आँखों में दो बूंद आँसू थे।


जब मुझे डिग्री मिली तब भी आँखों में दो बूंद आँसू थे।
जब मैं सेहरे पहन घोड़ी चढ़ा तब भी उनके आँखों में दो बूंद आँसू थे।


जब मेरा बेटा हुआ तब भी उनके आँखों में दो बूंद आँसू थे।
जब मैं बीमार हुआ तब भी उनकी आँखों में दो बूंद आँसू थे।


जब मैं इस जहाँ में उनके रहते चला तब भी उनकी आँखों में दो बूंद आँसू थे।

🥳 अगर आपको माँ (Mother) पर लिखी यह कविता अच्छी लगी हो तो इस “माँ की आँखो में दो बूंद आँसू” को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और नए साल की शुभकामनाएँ भेजें

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X