📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat)

👀 “सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध” पर लिखा हुआ यह निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat / Essay on Vigilant India and Prosperous India) आप को अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए निबंध लिखने में सहायता कर सकता है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयों पर हिंदी में निबंध मिलेंगे (👉 निबंध सूचकांक), जिन्हे आप पढ़ सकते है, तथा आप उन सब विषयों पर अपना निबंध लिख कर साझा कर सकते हैं


सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध
Satark Bharat aur Samridhh Bharat
Essay on Vigilant India and Prosperous India


किसी भी देश की उन्नति तभी हो सकती है, जब उस देश का हर नागरिक सतर्क होगा। सरकार के साथ ही हर देशवासी का यह कर्तव्य है कि वह अपने भारत देश को बुराइयों और बुरे लोगों से बचाए। क्योंकि एक छोटी सी गलती और देश की बर्बादी। यदि हमें अपने देश को समृद्ध बनाना है, और अन्य देशों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना है तो हमें भ्रष्टाचार, आतंकवाद, प्रदूषण आदि से अपने देश को बचाना होगा। इसके अलावा आजकल देश में बढ़ रहे दंगे, हत्या, रेप, दहेज प्रथा जैसी बुरी चीज़ें भी हमारे देश की उन्नति में बाधा डालती हैं। इन सभी समस्याओं का समाधान करना बहुत ही आवश्यक है।

एक ज़माना था जब हमारा देश सोने की चिड़िया के नाम से जाना जाता था, लेकिन धीरे धीरे देश में बढ़ने वाले भ्रष्टाचार ने हमारे देश को गरीब करके रख दिया। यदि हम अपने देश को फिर से सोने की चिड़िया के रूप में देखना चाहते हैं, और अन्य देश के बराबर खड़े होना चाहते हैं, तो हम सबको मिलकर इसके लिए प्रयत्न करने होंगे। 

प्रस्तावना (Introduction) –

हमारा भारत एक अधिक जनसंख्या वाला देश है। इसमें लगभग 139 करोड़ लोग निवास करते हैं। इतनी जनसंख्या में ज्यादातर लोग गरीबी में जीवन व्यतीत करते हैं, क्योंकि भ्रष्टाचार की वजह से अमीर बहुत अमीर और गरीब बहुत गरीब हो चुके हैं। ऐसे में यदि हमें अपने भारत को समृद्ध बनाना है और उसका विकास करना है, तो हम सबको सतर्कता रखनी पड़ेगी। 

जिस तरह सतर्क रहकर इंसान स्वयं को बुरे लोगों और बुरी चीज़ों से बचाता है, उसी तरह देश को भी बुराइयों से बचाना हम सभी देशवासियों का कर्तव्य है। और ऐसा नहीं है कि यदि हम कोशिश करेंगे तो हमारी जीत नहीं होगी। कोशिश करने से ही व्यक्ति बड़े से बड़े काम को अंजाम दे सकता है। 

आखिर कोरोनावायरस जैसी भयंकर और जानलेवा महामारी में हम सब ने मिलकर अपने देश को तबाह होने से बचाया था। हर एक की स्वच्छता और जागरूकता ने ही देश को तबाही से रोका। हालाँकि देखा जाए तो इस महामारी का कारण भी इंसान की लापरवाही और स्वार्थ ही है। अगर मानव ने सतर्कता दिखाई होती तो कोरोनावायरस जैसी महामारी हमारे देश को छू भी नहीं सकती थी। 

कोविड-19 के कारण ही हमारे देश भारत की अर्थव्यवस्था इतनी गिर गई है कि उसे पटरी पर वापस लाने में शायद सालों लग जाएं। कोरोनावायरस जैसी खतरनाक महामारी के संकट से सबसे ज़्यादा सुरक्षित न्यूजीलैंड था, जिसने सतर्कता रखकर खुद को इससे बचाया। हमारे भारतीयों ने भी कोरोनावायरस से छुटकारा पाने के लिए गंभीर कदम उठाए, लेकिन तब तक यह महामारी देश में बुरी तरह फैल चुकी थी।

सतर्कता क्या है (What is Vigilance in Hindi)?

सतर्कता का अर्थ होता है, स्वयं को और अपने देश को ऐसी चीज़ों या लोगों से बचाकर रखना, जो हमें नुकसान पहुंचाना चाहते हैं। इसके अलावा खुद की सफ़ाई के साथ ही अपने विचारों को भी स्वच्छ रखना एक सतर्कता है। अपनी आने वाली पीढ़ी को गलत चीज़ों से बचाना, भ्रष्टाचार जैसी देश को खोखली करने वाली चीज़ों को खत्म करने में मदद करना, नारी शक्ति को बढ़ावा देना, देश के लोगों को देश की उन्नति के बारे में जागरूक करना, आदि सभी चीज़ें सतर्कता के अंदर आती हैं।

सतर्कता का महत्व (Importance of Vigilance) –

भारत देश को समृद्ध बनाने के लिए हमारे देश में सतर्कता का होना बहुत महत्वपूर्ण है। आतंकवाद के कारण बम फटना, भ्रष्टाचार के कारण गरीबों का रात में भूखे सोना, रेप करने वालों को गंभीर सजा न देकर उन्हें खुले आम छोड़ना और उन्हें बढ़ावा देना, अपने स्वार्थ के लिए कहीं भी प्रदूषण फैलाना इत्यादि चीज़ें हमारे देश को आगे बढ़ने से रोकती हैं। यदि सरकार और आम जनता इन चीजों के लिए सतर्क नहीं हुई तो हम अपने देश को कभी भी स्वच्छ और समृद्ध नहीं बना पाएंगे। 

किसी ने क्या खूब कहा है कि सतर्कता या जागरूकता ही एक सफल देश की निशानी है।

सतर्कता की आवश्कता (Need for Caution) –

सतर्कता की आवश्यकता हर एक क्षेत्र में है, जिनके बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं –

(1) देश को सबसे ज़्यादा खतरा आतंकवादियों से है, जो देश को तबाह व बर्बाद करने के लिए हर दिन एक नया षड्यंत्र रचते हैं। यदि सरकार ने आतंकवादियों को खत्म करने की कोई विशेष योजना नहीं बनाई तो यह हमारे देश को तबाह करने में ज़्यादा समय नहीं लगाएंगे। सरकार को चाहिए कि वो आतंकवादियों के लिए कड़ा से कड़ा कानून बनाए, और आम जनता को भी इसके लिए जागरूक व सतर्क करे।

(2) हमारे भारत देश के लिए दूसरा जो सबसे बड़ा खतरा है, वह भ्रष्टाचार है। भ्रष्टाचार ही आतंकवाद, और ड्रग्स जैसी बुराइयों को फैलाने में अहम भूमिका निभाता है। भ्रष्टाचार ने हमारे देश को गरीबी के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। हमारे देश में भ्रष्टाचार को रोकना बेहद ज़रूरी है। भ्रष्टाचार को खत्म करके ही हमारा देश सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंच सकता है।

(3) प्रदूषण भी हमारे देश की उन्नति में सबसे बड़ी बाधा है। यह न केवल हमारे भारत को बल्कि पूरी दुनिया को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है। वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, रेडियोधर्मी प्रदूषण आदि ऐसे प्रदूषण हैं, जो जीव जंतु और प्राणियों सभी के जीवन को संकट में डाल रहे हैं। इसकी सतर्कता भी भारत के नागरिक और सरकार दोनों का कर्तव्य है।

(4) एक समृद्ध भारत बनाने के लिए हमारे देश के कानून को भी कड़ा और मजबूत होना पड़ेगा। ऐसा करने से जो भी अपराधी अपराध करके खुले आम घूमते हैं, उनकी हिम्मत नहीं होगी ऐसा करने की। आज बड़े से बड़ा जुर्म करके, रेप करके, हत्या करके, घूस लेकर, गुंडागर्दी करके, चोरी करके, ड्रग्स बेचकर अपराधी ऐसे घूम रहे हैं, जैसे कोई आम व्यक्ति या कोई विशेष व्यक्ति हो। ऐसे लोगों को कड़ी से कड़ी सजा देकर ही देश को सुधारा जा सकता है, और तभी हमारा देश एक समृद्ध भारत बनेगा।

(5) हमारे देश के नागरिकों को अपने स्वार्थ के लिए कोई भी ऐसा काम या कोई भी ऐसा परीक्षण नहीं करना चाहिए, जो आम जनता को नुकसान पहुंचाए।

(6) शिक्षा का पूरे देश में ज़्यादा से ज़्यादा प्रसार होना चाहिए। यदि व्यक्ति शिक्षित होगा तो वो कोई भी ऐसा काम नहीं करेगा, जो देश के लिए हानिकारक हो। एक शिक्षित व्यक्ति ही अपने देश को सफलता की ओर लेकर जाता है। इसलिए एक सतर्क और समृद्ध भारत बनाने के लिए शिक्षा सबसे आवश्यक चीज़ है।

(7) एक देश तब तक सतर्क और समृद्ध नहीं होगा, जब तक कि उस देश की महिलाएँ पढ़ी लिखी नहीं होंगी। एक पढ़ी लिखी मां ही अपने बच्चों को शिक्षित कर सकती है, उन्हें जीवन का अच्छा पाठ पढ़ा सकती है। इसके अलावा शिक्षित नारी किसी भी तरह के खतरे या अत्याचार से लड़ती है। उनसे डरने की बजाए, उनका सामना करती है। एक पढ़ी-लिखी महिला खुद को बड़े संकट से बचाने में भी सतर्क रहती है।

निष्कर्ष (Conclusion) –

हमारे भारत में विभिन्न धर्मों के लोग रहते हैं, जिनमें आपस में एकता, प्रेम और दया की भावना देखने को मिलती है। अनेकता होते हुए भी हम सब में एकता है। यही कारण है कि हमारे देश की चर्चा और लोकप्रियता पूरे विश्व में है। कोई भी संकट आने पर पूरा देश मिलकर उसको दूर करने का प्रयास करने में लग जाता है। बस यही चीज़ हमारे देश को आगे बढ़ाने, भारत को सतर्क और समृद्ध बनाने के काम आएगी। 

हमारी एकता ही हमारी ताकत है, जिसने आजतक हमें किसी के आगे घुटने टेकने नहीं दिए, और अन्य देश के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने में मदद की। आगे भी हमारी एकता की ही जरूरत पड़ेगी, जो देश को एक ऐसी ऊंचाइयों पर पहुंचा सके, जिसका सपना देश का हर एक नागरिक देखता है।


👉 यदि आपको यह लिखा हुआ सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat / Essay on Vigilant India and Prosperous India) पसंद आया हो, तो इस निबंध को आप अपने दोस्तों के साथ साझा करके उनकी मदद कर सकते हैं |


👉 आप नीचे दिये गए छुट्टी पर निबंध पढ़ सकते है और आप अपना निबंध साझा कर सकते हैं |

छुट्टी पर निबंध
लॉकडाउन में मैंने क्या किया पर निबंधछुट्टी का दिन पर निबंध
गर्मी की छुट्टी पर निबंधछुट्टी पर निबंध
ग्रीष्म शिविर पर निबंधगर्मी की छुट्टी के लिए मेरी योजनाएँ पर निबंध

तो मित्रों, इस प्रकार सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat / Essay on Vigilant India and Prosperous India) समाप्त होता है। हमने पूरी कोशिश की है कि इस निबंध में किसी प्रकार की त्रुटि न हो, लेकिन फिर भी भूलवश कोई त्रुटि हो गयी हो तो आप अपने सुझाव हमें ईमेल कर सकते हैं। हम आपके सकारात्मक कदम की सराहना करेंगे। हम आपके लिये भविष्य में इसी प्रकार सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat / Essay on Vigilant India and Prosperous India) की भाँति अन्य विषयों पर भी उच्च गुणवत्ता के सरल और सुपाठ्य निबंध प्रस्तुत करते रहेंगे। यदि आपके मन में इस निबंध (Essay) को लेकर कोई सुझाव है या आप चाहते हैं कि इसमें कुछ और जोड़ा जाना चाहिए, तो इसके लिए आप नीचे Comment सेक्शन में आप अपने सुझाव लिख सकते हैं आपकी इन्हीं सुझाव / विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मौका मिलेगा |

🔗 यदि आपको यह लेख सतर्क भारत और समृद्ध भारत पर निबंध (Satark Bharat aur Samridhh Bharat / Essay on Vigilant India and Prosperous India) अच्छा लगा हो इससे आपको कुछ सीखने को मिला हो तो आप अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को निचे दिए गए Social Networks लिंक का उपयोग करते हुए शेयर (Facebook, Twitter, Instagram, LinkedIn, Whatsapp, Telegram इत्यादि) कर सकते है |

-|| धन्यवाद || –

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X