📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

नारी शिक्षा पर निबंध

👀 नारी शिक्षा पर निबंध पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay on Women Education in Hindi / Naari Shiksha par Nibandh in Hindi) आप को अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए निबंध लिखने में सहायता कर सकता है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयों पर हिंदी में निबंध मिलेंगे (👉 निबंध सूचकांक), जिन्हे आप पढ़ सकते है, तथा आप उन सब विषयों पर अपना निबंध लिख कर साझा कर सकते हैं


नारी शिक्षा पर निबंध
Essay on Women Education in Hindi
Naari Shiksha par Nibandh in Hindi


🗣️ नारी शिक्षा पर निबंध  (Essay on women education in hindi / Naari Shiksha par Nibandh in Hindi) पर यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12, कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए और अन्य विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए लिखा गया है।

परिचय 

चाहे परिवार हो या समाज, चाहे देश हो या पूरा विश्व, इन सबके विकास में नारियों का हमेशा ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है। अगर अभी केवल इंडिया की बात करें तो इंडिया को एक “पुरूष प्रधान” देश कहा जाता है लेकिन क्या सच में देश केवल पुरुष ही प्रधान हैं? क्या केवल पुरषों की वजह से जीवन और देश चल रहा? अब बहुत से ज्ञानी यहाँ पर भी ” हाँ ” ही कहेंगे। मैं जो ये निबंध लिख रहा हूँ, एक पुरुष ही हूँ लेकिन इस बात से तनिक भी सहमति नहीं रखता हूँ। मेरा ऐसा मानना है कि नारी और पुरूष एक साइकिल के दो पहिये हैं अर्थात अगर कोई भी पहिया खराब हुआ तो साइकिल का चलना मुश्किल हो जाता है, उसी प्रकार अगर नारी और पुरुष दोनों में से किसी की भी स्थिति बिगड़ी तो विकास में बाधा आना निश्चित ही है और इसके बहुत से उदाहरण देखे जा चुके हैं और वर्तमान में भी देखे जा सकते हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि एक नारी ही है जिसकी वजह से हर पुरुष का अस्तित्व है इसीलिए नारियों की महत्ता समझना अत्यंत आवश्यक है। 

नारी शिक्षा

शिक्षा हर किसी का अधिकार है। देश के संविधान में भी स्पष्ट लिखा गया है कि न्याय और शिक्षा सबके लिए एक समान है चाहे वह नारी हो या फिर पुरुष लेकिन फिर भी अभी कई जगह नारी शिक्षा के बारे में लोगों को ज्ञान नहीं है। नारी शिक्षा का शाब्दिक अर्थ है “नारी के लिए शिक्षा” अर्थात वह शिक्षा और ज्ञान जिसके माध्यम से हर कन्या और नारी शिक्षा ग्रहण कर सके और अपने पैरों पर खड़ी होकर काबिल बन सके, ऐसी शिक्षा को नारी शिक्षा कहा जाता है। शिक्षा का धारा केवल पढ़ाई तक ही सीमित नहीं है बल्कि शिक्षा के द्वारा नारी स्कूली जीवन के अलावा समाज में अपना महत्वपूर्ण योगदान देती है। शिक्षा वही है जिसके द्वारा नारी आत्मनिर्भर बन सके और जीवन में आने वाली किसी भी तरह की कठिनाइयों का सामना कर सकें।

नारी शिक्षा जरूरी क्यों? 

मेरा ऐसा मानना है कि यह सवाल होना ही नहीं चाहिए कि नारी शिक्षा जरूरी क्यों है क्योंकि शिक्षा की कोई जरूरत नहीं होती बल्कि वह नारी और पुरुष सभी का अधिकार होता है इसीलिए इसको अधिकार शब्द से संबोधित करना चाहिए। फिर भी अगर दूसरे दृष्टिकोण से यह प्रश्न उठ भी जाए कि इसकी जरूरत क्यों है तो उसके हजारों कारण निकल कर आएंगे। प्राचीन काल में नारियों की स्थिति बहुत ही ज्यादा खराब थी उन्हें एक दयनीय भाव से देखा जाता था और केवल यह समझा जाता था की आजीवन नारियों का इस्तेमाल केवल चूल्हा- चौका और बच्चे संभालने के लिए ही किया जाना चाहिए। उसी समय से नारियों के विकास पर कोई ध्यान नहीं दिया गया जिसका परिणाम यह हुआ कि वर्तमान में भी समाज काफी पीछे है और कहीं ना कहीं यह बात सभी लोग जानते हैं लेकिन फिर भी बोल नहीं सकते। अगर बात वर्तमान की करें तो अभी भी बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर नारियों की शिक्षा को महत्व नहीं दिया जाता है लेकिन यह धारणा बदलने की बहुत ज्यादा जरूरत है क्योंकि नारियों पर होने वाले अत्याचार, शोषण और घरेलू हिंसा से आत्मरक्षा करने के लिए उनका शिक्षित होना बहुत जरूरी है क्योंकि एक शिक्षित और स्वस्थ नारी ही समाज को आगे बढ़ा सकती है।

नारी शिक्षा से लाभ 

नारी शिक्षा के अनगिनत लाभ हैं। जब एक नारी शिक्षित होती है तो वह कठिन से कठिन परिस्थितियों को भी पार कर जाती है। जीवन में आने वाले संघर्ष में शिक्षा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और जब बात नारी शिक्षा की हो तो यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। अगर कोई नारी शिक्षित नहीं रहती तो समाज के बुरे लोग अपनी चालाकी से उसका फायदा उठा सकते हैं। घरेलू हिंसा के चक्कर में पड़कर नारियों को बहुत समस्या झेलनी पड़ती है। जागरूक ना होने की वजह से कानून के नाम पर डर जाती है और बस वैसा करती जाती हैं जैसा उनसे कहा जाता है। वहीं एक शिक्षित और जागरूक नारी सारे कायदे कानून से वाकिफ रहती है और वह सही और गलत की पहचान करने में सक्षम होती है। इसीलिए वर्तमान में बहुत आवश्यक है कि नारियों को हर तरह की शिक्षा दी जाए ताकि कोई उन्हें गलत तरीके से परेशान ना कर सके। साथ ही जब नारी शिक्षित और जागरूक रहती है तो वह अपने साथ-साथ आने वाली भावी पीढ़ी के विकास में भी योगदान देती है। 

विश्व स्तर पर सरकार का नारी शिक्षा पर ध्यान

हालांकि बदलते समय के साथ नारी शिक्षा के संबंध में कुछ सकारात्मक बदलाव हुए हैं जिनकी वजह से अब ज्यादातर क्षेत्रों में लोगों को नारी शिक्षा का महत्व पता है। भारत में भी सरकार ने नारियों के विकास के लिए कई योजनाएं जैसे “सुकन्या योजना” , “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” आदि की शुरुआत की और यह बहुत अच्छी बात है कि उसके सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिले हैं। इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी नारियों की शिक्षा के लिए कदम उठाए जा रहे हैं और हर वह कोशिश की जा रही है जिससे नारियों को शिक्षित करके आत्मनिर्भर बनाया जा सके।

नारी शिक्षा से सम्बंधित स्लोगन

★ नारी को पढ़ाना मतलब देश को आगे बढ़ाना।

★ नारियों का करो सम्मान, क्योंकि नारी होती भगवान समान।

★ नारी शिक्षित तो पूरा वंश शिक्षित। 

★ शिक्षा नारियों का जन्मसिद्ध अधिकार। 

★ आज एक लड़की को शिकायत करें और कल एक सुंदर समाज प्राप्त करें आदि। 

निष्कर्ष

वैसे तो हमारे देश को नारियों को बहुत ऊंचा दर्जा दिया जाता है और उन्हें पूजनीय समझा जाता है। साथ ही नारियों की शिक्षा की वजह से उनकी दशा में बहुत सुधार भी आया है लेकिन अभी भी समाज के बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर इस ज्ञान की काफी कमी है। वहाँ पर लोगों को पता नहीं है कि नारी को शिक्षित करके एक पूरा वंश सँवर जाता है। अतः यह काफी आवश्यक है कि समाज का हर व्यक्ति अपनी ओर से नारियों की स्थिति को सुधारने और उन्हें शिक्षित करने के लिए हर वह प्रयास करें जो वह कर सकता है ताकि पूर्ण रूप से नारी को भी पुरुष के समान ही सम्मान मिले और वो विकास में अपना योगदान दे सकें क्योंकि यह बात हमेशा अटल रहेगी कि नारियों के कारण ही पुरूष का अस्तित्व है। 


👉 यदि आपको “नारी शिक्षा पर निबंध” पर यह निबंध पसंद आया हो, तो इस निबंध (Naari Shiksha par Nibandh / Hindi Essay on Women Education) को आप दोस्तों के साथ साझा करके उनकी मदद कर सकते हैं


👉 आप नीचे दिये गए सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध पढ़ सकते है तथा आप अपना निबंध साझा कर सकते हैं |

सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध
नयी शिक्षा नीति पर निबंधशिक्षित बेरोजगारी पर निबंध
जीना मुश्किल करती महँगाईपुरानी पीढ़ी और नयी पीढ़ी में अंतर
मानव अधिकार पर निबंधभारत में आतंकवाद की समस्या पर निबंध
भ्रष्टाचार पर निबंधजीवन में शिक्षा का महत्व पर निबंध

विनम्र अनुरोध:

इस तरह “नारी शिक्षा पर निबंध  (Essay on women education in hindi / Naari Shiksha par Nibandh in Hindi)” यहीं पूरा होता है। हमने अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए पूरी कोशिश की है कि इस हिंदी निबंध में किसी भी प्रकार की त्रुटि ना हो। फिर भी यदि आप को इस निबंध में कोई गलती दिखती है तो आप अपना बहुमूल्य सुझाव ईमेल के द्वारा दे सकते है। ताकि हम आपको निरन्तर बिना किसी त्रुटि के लेख प्रस्तुत कर सकें।

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X