📢 भारतीय स्वतंत्रता के 75 साल – Essay on 75 years of Indian Independence in Hindi
🔥 Join eWritingCafe Telegram for latest Essay topics
🔥 An Essay on Holi Festival in English

सत्यमेव जयते पर निबंध (Satyamev Jayate Essay in Hindi)

👀 इस पेज पर नीचे लिखा हुआ सत्यमेव जयते पर निबंध (Satyamev Jayate Essay in Hindi) आप को अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए निबंध लिखने में सहायता कर सकता है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कई विषयों पर हिंदी में निबंध मिलेंगे (👉 निबंध सूचकांक), जिन्हे आप पढ़ सकते है, तथा आप उन सब विषयों पर अपना निबंध लिख कर साझा कर सकते हैं

सत्यमेव जयते पर निबंध
Satyamev Jayate Essay in Hindi


🗣️ सत्यमेव जयते पर निबंध (Satyamev Jayate Essay in Hindi) पर यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

प्रस्तावना

विश्व में सबसे बड़ी ताकत सत्य की ही होती है। इसीलिये किसी भी युद्ध या लड़ाई में सच्चाई का साथ देने वालों की ही जीत होती है। जो व्यक्ति सच्चाई का साथ बिना किसी डर के देता है, वह सभी के लिये एक उदाहरण बन जाता है। इतिहास में ऐसे कई लोग थे जिन्होंने सत्य का साथ दिया और सत्य के लिये अपना जीवन भी बलिदान करने के लिये तत्पर हो गए। चाहे वे सत्य के खोज में निकले महात्मा बुद्ध हो, या हमेशा सत्य का पालन करने वाले राजा हरिश्चंद्र। महात्मा गाँधी ने अपने कर्मों से हमें सत्य का ही पालन करने की शिक्षा दी थी। आइये सत्य के महत्व के संबंध कुछ बातें जानते हैं।

सत्यमेव जयते का महत्व

सत्यमेव जयते हमारे देश का राष्ट्रीय आदर्श वाक्य है। यह हमें हमारे जीवन को सत्य के मार्ग पर ले जाने की प्रेरणा देता है। मौर्य वंश के सम्राट अशोक द्वारा बनवाये गये सारनाथ स्थित अशोक स्तंभों पर भी यह वाक्य अंकित है। भारत के ऋषि-मुनियों द्वारा जो उपनिषद लिखे गये। उनमें से “मुण्डक” नामक उपनिषद में एक श्लोक वर्णित है, सत्य और असत्य के बारे में कहा गया है। 

सत्यमेव जयते नानृतं सत्येन पंथा विततो देवयानः । येनाक्रमंतयषयो दृत्कामा यत्र सत्यस्य परमं निधानभ ।।

अर्थात, सदैव सत्य की ही विजय होती है, असत्य की नहीं। सत्य के मार्ग पर चलकर ही वीर पुरुष अपनी कामनाओं को पूरा करते हैं और जीवन के सर्वोच्च उद्देश्य को प्राप्त करते हैं।

सत्य हमेशा क्यों जीतता है?

असत्य के खिलाफ सत्य कितना ही दुर्बल हो जाए परंतु अंतत: विजय सत्य की ही होती हैं। इसका कारण ये है कि संसार में मौलिक शक्ति सत्य की है। असत्य भी सत्य से बना हुआ है। सभी मनुष्य अपने-अपने श्रमानुसार जीवन में भौतिक और मानसिक सुख प्राप्त करते हैं। किंतु जो व्यक्ति हमेशा सत्य का आचरण और अपने जीवन में इसे ही महत्व देता है, वह हर पल आंतरिक आनंद की अनुभूति करता है।

इसका अर्थ ये नहीं कि सत्य का मार्ग सरल है। इसके विपरीत सत्य का मार्ग तो अतिशय कठिन है। वीर और धीर पुरुष ही सत्य को अपने व्यवहार और जीवन के हर क्षेत्र में स्थापित कर पाते हैं। आरंभ में भगवान हमारी सत्य के पथ से डिगाने के लिये हमारी संकल्प शक्ति की परीक्षा लेते हैं। लेकिन जब हम इसमें सफल हो जाते हैं तो सत्य की सबसे बड़ी शक्ति हमारे साथ होती है। आपने वह वाक्य तो सुना होगा कि सच परेशान हो सकता है, पराजित नहीं हो सकता।

सत्य के मार्ग पर कैसे चलें?

हमने कहा है सत्य के मार्ग पर चलना काँटो पर चलने के समान दुष्कर है। परंतु यह असंभव भी नहीं हैं। अगर हम अपने दैनिक जीवन को ही देखें तो कई बार हम असत्य बोलते हैं। यदि हम सत्य बोलने का संकल्प ले लें तो आरंभ में परेशानियाँ आएंगी और हमारा मन भी विरोध करेगा। इन परेशानियों का सामना हमें साहस और धैर्य से करना होगा। निष्ठापूर्वक निरंतर सत्य बोलने के अभ्यास से हमें सत्य की महिमा और शक्ति का अहसास होने लगेगा। हमारे संपर्क में रहने वाले लोग भी इसका कुछ अंशों में अनुभव कर पाएंगे। सत्य के यह शक्ति हमारे जीवन को विशाल और सार्थक बनाने में हमारी हर प्रकार से सहायता करेगी।

सत्य पर आधारित कुछ महान विचार

  • सूरज, चंद्रमा और सत्य बहुत देर तक छिपे नहीं रह सकते।- महात्मा बुद्ध
  • सत्य को हजारों तरीके से बताया जा सकता है, पर फिर भी हर एक सत्य ही होगा।- स्वामी विवेकानंद
  • तथ्य कई हैं, पर सत्य एक है। -रविन्द्रनाथ टैगोर
  • अगर आप सत्य बोलते हैं तो आपको कुछ याद रखने की जरूरत नहीं होती।-मार्क ट्वेन
  • सत्य किसी व्यक्ति विशेष की संपत्ति नहीं है, बल्कि ये सभी व्यक्तियों का खजाना है।-राल्फ वाल्डो इमर्सन

उपसंहार

सत्य की शक्ति और प्रकाश असीम तथा अनंत है। सत्य को बंधनों में कभी नहीं बाँधा जा सकता है। सत्य ही एकमात्र ऐसी वस्तु है जो सर्वदा मुक्त रहती हैं। आज हम चाहें तो हवा को भी कैद कर सकते हैं, पर सत्य को नहीं। अनगिनत महान विद्वानों ने हमें सत्य का ही मार्ग अपनाने की प्रेरणा और उदाहरण दिये हैं। एक बात साफ है, यदि हम सत्य को अपने जीवन में धारण करते हैं तो हमारा जीवन अतुलनीय रूप से सुंदर हो जाएगा। 

👉 यदि आपको यह लिखा हुआ सत्यमेव जयते पर निबंध (Satyamev Jayate Essay in Hindi) पसंद आया हो, तो इस निबंध को आप अपने दोस्तों के साथ साझा करके उनकी मदद कर सकते हैं


👉 आप नीचे दिये गए सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध पढ़ सकते है तथा आप अपना निबंध साझा कर सकते हैं |

सामाजिक मुद्दे और सामाजिक जागरूकता पर निबंध
नयी शिक्षा नीति पर निबंधशिक्षित बेरोजगारी पर निबंध
जीना मुश्किल करती महँगाईपुरानी पीढ़ी और नयी पीढ़ी में अंतर
मानव अधिकार पर निबंधभारत में आतंकवाद की समस्या पर निबंध
भ्रष्टाचार पर निबंधजीवन में शिक्षा का महत्व पर निबंध

विनम्र अनुरोध:

इस तरह “सत्यमेव जयते पर निबंध (Satyamev Jayate Essay in Hindi)” यहीं पूरा होता है। हमने अपना सर्वश्रेष्ठ देते हुए पूरी कोशिश की है कि इस हिंदी निबंध में किसी भी प्रकार की त्रुटि ना हो। फिर भी यदि आप को इस निबंध में कोई गलती दिखती है तो आप अपना बहुमूल्य सुझाव ईमेल के द्वारा दे सकते है। ताकि हम आपको निरन्तर बिना किसी त्रुटि के लेख प्रस्तुत कर सकें।

अपने दोस्तों को share करे:

Leave a Comment

X